World Environment Day: S3 Cabs to launch portable Bio-diesel distribution


World Environment Day: S3 Cabs to launch portable Bio-diesel distribution 05 June 18, Mumbai: The newest entrant in the taxi business in the metropolis has also vowed to be the greenest on this World Environment Day. While rival taxi companies are slowing down on EV plans, S3 has got the approval and tie up for a mobile bio-diesel distribution pump. The pump will be used to fill bio-diesel for its cabs across Mumbai. Speaking on the development Sohel Kazani said “I am very excited that we have received a fantabulous response from the drivers and riders both. As a company, Sahyadri Smart Safe Private Limited was a late entrant in the business, but we always wanted to be the path leaders. Going forward with our vision, we have procured the equipment and supply for bio-diesel distribution. The mobile bio-diesel distribution van will travel all over the Mumbai and have fixed timings at South Mumbai and near all Mumbai entry points. In the first stage we only want to supply the fuel to our taxis, if we are surplus, we will distribute it to other vehicles too.” Bio-diesel blend has been made a mandate in many countries. The government had recommended a blend in 2017 but the same has not been made compulsory. Biofuels also reduce the emissions making the environment cleaner. It would help the economy by reducing crude import; India imports approximately 8 lakh crores of crude oil annually. Also, it is priced lower than convention diesel, resulting in savings for the drivers. Shifting to biofuels is also a long-term solution to the problem of rising fuel prices. There is no major infrastructure change required compared to EVs where major infrastructure investment is required on charging points. At the commercial inception of the cab services, S3 had provided a patented technology registered as 'Oxy Power' to all its drivers. This technology requires an external fitment in the car and helps in the better utilization of the fuel resulting in 20% and 30% reduction in fuel consumption. Reduced fuel consumption helped the taxis to operate at flat fares all the times. Now with BioDiesel, there will be further 5% to 10% reduction in fuel costs resulting in Net overall 40% reduction in fuel bill to be paid by the taxi owners. “The average consumption of fuel by the cab owners based on 300km per day traveling amounts to 30 liters of diesel, and that equals to INR 2200 per day. A 40% reduction would mean INR 880 saving per day on fuel account or as much as INR 26000 approx a month by using bio-diesel and the oxy-power unit. A pilot study made us understand that it keeps the fuel systems and fuel injector cleaner thus reducing the vehicle maintenance cost and increasing the mileage. It will also help in additional employment generation. We would like to work closely with the government to make the shift to biofuels happen and we hope that they lower the GST on bio-diesel to 5%” mentioned Sohel. Biodiesel can be used in any diesel car without any additional modification as in the case of CNG. It is cleaner and more efficient than regular diesel. Biodiesel can be used alone or blended with regular diesel in any proportions. Nitin Gadkari, hon. Minister of Road Transport has been advocating the use of biofuels for a very long time. He has mentioned on several occasions that there is an urgent need to re-think and revisit transport infrastructure and fuel dependency across not just India, but the globe. Hindi Release : विश्व पर्यावरण दिवस: पोर्टेबल बायो-डीजल वितरण लॉन्च करेगी एस3 कैब्स 05 जून 18, मुंबई: मेट्रोपोलिस में टैक्सी व्यवसाय में नवीनतम प्रवेशकर्ता ने इस विश्व पर्यावरण दिवस पर प्रदूषण कम करने का वचन दिया है। जहां प्रतिद्वंद्वी टैक्सी कंपनियां इलेक्ट्रिक वेहिकल की योजनाओं पर धीमी हो रही हैं, एस3 को मोबाइल बायो-डीजल वितरण पंप के लिए मंजूरी मिल गई है। पंप का इस्तेमाल पूरे मुंबई में अपने कैब के लिए बायो-डीजल भरने के लिए किया जाएगा। इस पर बोलते हुए कंपनी के डायरेक्टर सोहेल कज़ानी ने कहा, "मैं बहुत उत्साहित हूं कि हमें दोनों ड्राइवरों और सवारियों से एक शानदार प्रतिक्रिया मिली है। एक कंपनी के रूप में, सह्याद्री स्मार्ट सेफ प्राइवेट लिमिटेड का व्यवसाय में देर से प्रवेश हुआ है, लेकिन हम हमेशा इस पथ पर अग्रिम बने रहना चाहते हैं। हमारी दृष्टि के साथ आगे बढ़ते हुए, हमने बायो-डीजल वितरण के लिए उपकरण और आपूर्ति की खरीद की है। मोबाइल बायो-डीजल वितरण वैन पूरे मुंबई में यात्रा करेगा और दक्षिण मुंबई और मुंबई के सभी प्रवेश बिंदुओं के निकट वितरण का समय तय करेगा। पहले चरण में हम केवल अपने कैब्स को ईंधन की आपूर्ति करना चाहते हैं, अगर हम अधिशेष हैं, तो हम इसे अन्य वाहनों को भी वितरित करेंगे। " बायो-डीजल मिश्रण को कई देशों में एक जनादेश बनाया गया है। सरकार ने 2017 में मिश्रित डीजल की सिफारिश की थी लेकिन इसे अनिवार्य नहीं किया गया है। बायो ईंधन कच्चे तेल के आयात को कम करके अर्थव्यवस्था की मदद करेगा; भारत सालाना 8 लाख करोड़ कच्चे तेल का आयात करता है। इसके अलावा, यह डीजल से कम कीमत का है, जिसके परिणामस्वरूप ड्राइवरों के लिए बचत होती है। बायो ईंधन में स्थानांतरित होने से ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी की समस्या दीर्घकालिक रूप से समाप्त हो सकती है। इलेक्ट्रिक व्हीकल की तुलना में बायो डीजल के लिए कोई बड़ा बुनियादी ढांचा आवश्यक नहीं है। कैब सेवाओं की शुरुआत में, एस 3 ने अपने सभी ड्राइवरों को 'ऑक्सी पावर' के रूप में पंजीकृत पेटेंट तकनीक प्रदान की थी। इस तकनीक को कार में बाहरी फिटिंग की आवश्यकता होती है और ईंधन का बेहतर उपयोग में मदद करता है जिसके परिणामस्वरूप ईंधन की खपत में 20% और 30% की कमी होती है। कम ईंधन की खपत टैक्सियों को हर समय फ्लैट किराए पर काम करने में मदद करती है। अब बायो डीजल के साथ, ईंधन लागत में 5% से 10% की कटौती होगी जिसके परिणामस्वरूप टैक्सी मालिकों द्वारा ईंधन बिल में कुल 40% कटौती होगी। "300 किमी प्रति दिन यात्रा के आधार पर कैब मालिकों द्वारा ईंधन की औसत खपत 30 लीटर डीजल की है, और यह प्रति दिन 2200 रुपये के बराबर होती है। 40% की कटौती का अर्थ है ईंधन खाते पर 880 रुपये प्रति दिन या बायो-डीजल और ऑक्सी-पावर इकाई का उपयोग करके लगभग एक महीने में रुपये 26000 बचा सकते हैं। एक पायलट अध्ययन ने हमें यह समझाया कि यह ईंधन प्रणाली और ईंधन इंजेक्टर को ज्यादा साफ भी रखता है, जिससे वाहन रखरखाव लागत कम हो जाती है और माइलेज बढ़ जाती है। इससे अतिरिक्त रोजगार उत्पादन में भी मदद मिलेगी। हम बायो ईंधन में बदलाव करने के लिए सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं और हम उम्मीद करते हैं कि वे बायो-डीजल पर जीएसटी को 5% तक कम करें "सोहेल का उल्लेख किया। किसी भी अतिरिक्त संशोधन के बिना किसी भी डीजल कार में बायोडीज़ल का उपयोग किया जा सकता है। यह नियमित डीजल से क्लीनर और अधिक कुशल है। किसी भी अनुपात में नियमित डीजल के साथ बायोडीज़ल अकेले या मिश्रित किया जा सकता है। सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी बहुत लंबे समय से बायो ईंधन के उपयोग की वकालत कर रहे हैं। उन्होंने कई अवसरों पर उल्लेख किया है कि दुनिया भर में परिवहन के बुनियादी ढांचे और ईंधन निर्भरता को फिर से सोचने और फिर से देखने की तत्काल आवश्यकता है। Marathi release: जागतिक पर्यावरण दिन: पोर्टेबल बायो डीझेल वितरण लाँच करणार एस 3 कॅबस 05 जून 18, मुंबई: मुंबई मध्ये टॅक्सी व्यवसायात नवीन प्रवेशकर्ते या जागतिक पर्यावरण दिवसास प्रदूषण कमी करण्याचा वचन घेतला आहे. जिथे प्रतिस्पर्धी टॅक्सी कंपन्या इलेक्ट्रिक वेअिकल योजनांवर हडू जात आहेत, एस 3 कैब्स ला मोबाइल बायो-डिझेल वितरण पंप करीता मंजुरी मिळविली आहे. पंपचा उपयोग संपूर्ण मुंबई मध्ये कॅबमध्ये बायो-डिझेल भरणेसाठी केला जाईल. या कंपनीचे संचालक सोहेल कज़ानि यांनी सांगितले, "मी खूप उत्साहित आहे की मला दोन्ही ड्रायव्हर्स आणि सवारांना चांगला प्रतिसाद दिला." मोबाइल बायो-डीझेल वितरण व्हॅन संपूर्ण मुंबई मध्ये प्रवास करणार आणि दक्षिण मुंबई आणि मुंबईतील सर्व प्रवेश द्वार इथे डिलीवरीची वेळे निश्चित होणार. बायो डीझेल अनेक राष्ट्रांमध्ये अनिवार्य आहे. सरकारने 2017 मध्ये मिश्रित डीझेलची शिफारस केली पण ती अनिवार्य केली नाही. बायो ईंधन तेल आयात कमी करून अर्थव्यवस्थेची मदत पण करतो. भारत वार्षिक 8 लाख कोटी कच्च्या तेलाची आयात करते. बायो डीझेल कमी किमतीचे आहे, परिणामी ड्राइवरला बचत होईल. इलेक्ट्रिक व्हीकलची तुलना मध्ये बायो डीझेल साठी कोणतेही मोठे पायाभूत आवश्यक नाही. कॅब सेवा सुरुवातीला, एस 3 ने आपल्या सर्व ड्रायव्हर्सना 'ऑक्सी पावर' म्हणून नोंदणीकृत पेटंट तंत्र दिला. या तंत्रात कारमध्ये बाह्य फूटिंग करण्याची गरज आहे, ज्यामुळे तेलची खपत 20% - 30% कमी होते. कमी ईंधनचा वापर प्रत्येक वेळी फ्लॅट भाडे घेण्यासाठी मदितिचा आहे. आता बायो डीझल सह, इंधन खर्च 5% पासून 10% कट होणार. परिणामस्वरूप टॅक्सी मालकांनी एकूण बिल 40% कट होणार. "300 किलोमेटर्स प्रति दिन प्रवासचा आधारावर कॅब मालक कडून सरासरी 30 लिटर डीझेल वापर होत आहे, आणि हे दररोज 2200 रुपये प्रति समान आहे. 40% कटौती म्हणजे अर्थसंकल्पात 880 रुपये प्रतिदिन किंवा बायो- डीझेल आणि ऑक्सी-पावर युनिट वापरून सुमारे एक महिना मध्ये रुपये 26000 वाचवू शकता. "एक अभ्यासाने आम्हाला हे कळविले की हे फ्यूल सिस्टम आणि फ्यूल इनजेक्टर पण अधिक स्वच्छ ठेवतात, ज्यामुळे वाहन देखभाल खर्चात कमी होते. आम्ही शासनला बायो डीझेलवर जीएसटी 5% पर्यंत कमी करण्याची विनंती केली आहे. "सोहेलने उल्लेख केला. कोणत्याही अतिरिक्त दुरुस्ती न करता कोणत्याही डीझल कारमध्ये बायोडीझल वापरता येईल. नियमित डिझेल ते स्वच्छ आणि अधिक कुशल बायोडीजल कोणत्याही प्रमाणात नियमित डीझेल सह मिश्रित करता येईल.

Comments

Popular posts from this blog

TDSAT tells Reliance Big TV to clear dues or face disconnection of service from Antrix- Television Post

#ErosInternational signs four film co-production deal with #DrishyamFilms

BUMBLEBEE | FIRST LOOK IMAGE FROM BUMBLEBEE | Viacom18 Motion Pictures